रामनगर: बहन की आत्महत्या का बदला लेने के लिए फौजी ने रच डाली व्यापारी की हत्या की साजिश, मुरादाबाद में मिला शव

Advertisement

रामनगर, अमृत विचार। चार दिन पहले कार में अपहरण कर ले गए रामनगर के व्यापारी सुहैल सिद्दकी की हत्या कर दी गई है। सिद्दीकी का शव पुलिस ने मुरादाबाद के समीप काठ रोड छजलेट थाना क्षेत्र में गन्ने के खेत से बरामद किया है। पुलिस ने हत्याकांड का खुलासा करते हुए मुख्य आरोपी भरत आर्या को गिरफ्तार किया है, भरत सेना में तैनात है जो इन दिनों छुट्टी पर घर आया था जबकि उसका एक साथी अभी फरार बताया जाता है। इस हत्याकांड के पीछे आरोपी की बहन के साथ पहले प्रेम-प्रसंग बताया गया है, जिसने कुछ समय पहले आत्महत्या कर ली थी।

Advertisement

शुक्रवार को रामनगर कोतवाली में एसपी क्राइम डॉ. जगदीश चंद्र ने इस हत्याकांड का खुलासा करते हुए बताया कि सुहैल के भाई जुबैर सिद्दीकी ने बीती दो अगस्त की रात उसके भाई को कार द्वारा अपहरण करने की तहरीर दी थी। कोतवाल अरुण सैनी के नेतृत्व में तीन टीमें गठित कर गुमशुदा सुहैल की तलाश शुरू की गई। स्टेशनरी की दुकान के बाहर लगे सीसीटीवी कैमरे में एक कार द्वारा सुहैल की बाइक में टक्कर मारकर उसे ऑल्टो कार में डाले जाने की बात सामने आई।

Advertisement

आरोपी ने पूछताछ में बताया कि दो अगस्त की रात लगभग साढ़े आठ बजे वह और उसका दोस्त दिनेश टम्टा दोनों अपनी कार से सुहैल की दुकान से दो सौ मीटर दूरी पर नहर के किनारे पहुंचे और सुहैल का इंतजार करने लगे। दुकान बंद करके सुहैल जैसे ही उनके करीब पहुंचा तो उन्होंने कार से उसे टक्कर मार दी, जिससे उसके सिर पर चोट आ गई जैसे ही उसने उठने का प्रयास किया तो उन्होंने गाड़ी में रखे लोहे की रॉड से उसके सिर पर तेज प्रहार किए जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। फिर दोनों ने उंसकी लाश को कार में रख दिया। इसके बाद एक आरोपी कार और दूसरा सुहैल की बाइक लेकर गया। घटना में प्रयुक्त रॉड रास्ते में फेंक दी और सुहेल का मोबाइल, आधार कार्ड और पर्स नहर में बहा दिया। रात में ही उसके शव को मालधन काशीपुर होते मुरादाबाद पहुंचे। छजलेट के पास बाइक और उंसकी चाबी को सड़क किनारे झाड़ियों में फेंक दिया और 500 मीटर आगे जाकर गन्ने के खेत मे शव को फेंक दिया।

पहचान छुपाने को चेहरे पर छिड़का पेट्रोल
आरोपियों ने सुहैल के शव की पहचान छुपाने के लिए उसके चेहरे पर पेट्रोल छिड़ककर आग लगाने की बात भी कबूल की। आरोपी भरत आर्या ने बताया कि सुहैल की दुकान के बगल में ही उसके पिता हरीश राम की दुकान है। इस वजह से सुहैल उनकी दुकान में आता जाता था और उनके छोटे-मोटे काम कर देता था। सुहैल ने इसका फायदा उठाकर उसकी नाबालिग बहन को अपने प्रेम में फंसा लिया। आरोपी ने बताया कि उसकी बहन ने सुहेल से विवाह करने का प्रस्ताव रखा, जिसे सुहैल ने ठुकरा दिया। इस पर बहन ने आत्महत्या कर ली थी।

तानेबाजी बनी हत्या की वजह
आरोपी भरत आर्या ने बताया कि सुहैल जब भी उससे मिलता तो वह बहन को लेकर बातें करता था, जिस पर उसका आक्रोश बढ़ता गया। 14 जुलाई को वह सेना से छुट्टियों पर दो महीने के लिए घर आया था। जब तीन चार दिन पहले वह अपने पिता हरीश राम की दुकान पर पहुंचा तो सुहैल ने उस पर ताना मारा। उसी समय उसने हत्या करने की ठान ली। आरोपी को गिरफ्तार करने वालों में कोतवाल अरुण कुमार सैनी, एसएसआई प्रेम विश्वकर्मा, उपनिरीक्षक नीरज चौहान, उपनिरीक्षक विजय पाल सिंह, चंदन नेगी, हेमंत सिंह, गगन भंडारी, भूपेंद्र सिंह, राजेश कुमार, जयवीर सिंह, दिवान सिंह, अनिल गिरी मौजूद रहे।

Advertisement
Related

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.