समुंदर के अंदर भी बसेगा जन्नत सा शहर!, लग्जरी रूम से लेकर आलीशान होटल में ठहर सकेंगे आप, ऐसी होगी अंडरवॉटर सिटी

Advertisement

टोक्यो। अगर आपसे कहा जाए कि समुंदर के अंदर रह सकते हैं वो भी घर में। तो आप हैरान हो जाएंगे। आप सोचेंगे ये सब किस्से, कहानियों में होता है। आपका सोचना स्वाभिक है। हमने ये सब मूवी या फिर सीरियल में ही देखा है। हम आपको बता दें कि ये सब सच हो सकता है। समुंदर के अंदर रहने के लिए घर, लग्जरी रूम, घूमने के लिए होटल और मॉल होंगे साथ ही और बहुत सी सुविधा मिलेंगी। सूचना के मुताबिक जपान एक प्रोजेक्ट पर काम कर रहा है। इस प्रोजेक्ट में समुंदर के अंदर अंडरवॉटर सिटी बनाने की तैयारी चल रही है।

Advertisement

जानिए प्रोजेक्ट Ocean Spiral के बारे में
धरती पर 71 फीसदी हिस्सा पानी का है. समंदर ठोस सतह को चारों ओर से घेरे हुए है। बीच-बीच में महाद्वीप बसे हुए हैं। धरती के कोने-कोने में इंसान अपनी रिहायश बसा चुका है। देश, महादेश, महाद्वीप, माइक्रोनेशंस, होनोलूलू के द्वीप, यहां तक कि अंटार्कटिका के बर्फ भरे इलाकों में भी इंसान रहने की कोशिशें कर रहा है लेकिन अब इंसान समंदर के गहरे हिस्से में भी जाकर बसने की योजना पर काम कर रहा है। जापान और दुनियाभर में कई बड़े अत्याधुनिक कंस्ट्रक्शन प्रोजेक्ट बना चुकी जापान की बहुराष्ट्रीय आर्किटेक्चर कंपनी Shimizu Corporation की महत्वाकांक्षी योजना है अंडरवॉटर सिटी बसाने की। यह अपनी तरह का दुनिया का ऐसा पहला शहर बन सकता है जो पूरी तरह पानी के अंदर होगा और लोग धरती के लोगों की तरह नॉर्मल लाइफ जी सकेंगे।

Advertisement

 इस तरह होगी अंडरवॉटर सिटी
ये अंडरवॉटर शहर Ocean Spiral चौड़ाई में फुटबॉल के चार मैदान के साइज के बराबर होगा और समंदर के सतह से नीचे दो मील अंदर तक बसा होगा। यहां लोगों के रहने के लिए घर, बिजनेस की जगह, होटल, मॉल, मार्केट, ट्रांसपोर्ट के साधन सबकुछ धरती की तरह ही होंगे बल्कि उससे भी ज्यादा लग्जरियस। इसका बाहरी आवरण मजबूत और हर खतरे से सेफ बना होगा और अंदर रह रहे या घूम रहे लोग समंदर के अंदर की जिंदगी को आसानी से देख सकेंगे। कंपनी ने इस प्रोजेक्ट का ब्लू प्रिंट और प्लान की तस्वीरें भी जारी की हैं। इसे देखकर आप आभास कर सकते हैं कि पानी के अंदर जो लोग रहेंगे उनकी लाइफ कैसी होगी।

यह भी पढ़ें- Elon Musk ने तो एक अरसे से Sex भी नहीं किया, जानिए … दुनिया के सबसे अमीर शख्स को ये क्यों बताना पड़ रहा

Advertisement
Related

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.