पीलीभीत: घरों में हवन-पूजन और कन्या भोज, मंदिरों में गूंजे जयकारे

पीलीभीत, अमृत विचारl मां दुर्गा की आराधना के बीच नवरात्रि की नवमी को हवन-पूजन और कन्या भोग कराया गया। घरों में हवन-पूजन हुए। उसके बाद नौ दिन का व्रत रखने वाले श्रद्धालु छोटी कन्याएं तलाशने निकल पड़े। किसी ने सात तो किसी ने नौ कन्याओं को भोज कराकर उनके पैर धोए और पूजा-अर्चना की। कोई भक्त दही जलेबी तो कोई हलवा-पूड़ी लेकर कन्याओं को खिलाता नजर आया। बहुत से श्रद्धालुओं ने मंदिरों के बाहर भी कन्याओं को भोजन बंटवाया। कन्याओं ने भी भरपेट हलवा-पूरी और दही-जलेबी खाया। उसके बाद उन्हें दक्षिणा भी दी गई। इसी के साथ शारदीय नवरात्र का पारायण हो गया।

Advertisement

शहर में माँ यशवंतरी देवी, मां मातेश्वरी मंदिर, काली मंदिर ,दुर्गा मंदिर, मां संतोषी मंदिर के अलावा अन्य छोटे मंदिरों में भी सुबह से ही भक्तों की लंबी कतारें लग गईं। यशवंतरी देवी मंदिर में श्रद्धालुओं ने पूजा अर्चना की। उसके बाद वहीं बाहर बैठी कन्याओं का पूजन करने के बाद दही-जलेबी या हलवा-पूड़ी खिलाकर भोग लगाया।

हालांकि मंदिर के बाहर अक्सर घूमने वाली कन्याओं को नवमी के दिन इतना भोजन मिल गया कि वह बाद में आने वाले श्रद्धालुओं का दही-जलेबी खाने के बजाय अपने घर ले गईं। देर शाम मंदिरों में भजन कीर्तन भी हुए। महा मातेश्वरी मंदिर में हवन-पूजन किया गया। छोटे स्थानों पर पण्डालों को आकर्षक ढंग से सजाकर कन्या भोज कराया गया। अन्य दिनों के मुकाबले धार्मिक स्थलों पर नवरात्र की नवमी को रौनक देखी गई।

कन्या भोज के साथ ही नवव्रत संपन्न
मोहल्ला देवी स्थान स्थित आदिशक्ति मां दुर्गा मंदिर परिसर में बृहस्पतिवार को कन्या भोज का आयोजन किया गया। श्रद्धालुओं ने उसमें बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। घरों में भी भक्तों ने कन्या भोज कराया। ।सभासद शालिनी जयसवाल ने मां दुर्गा मंदिर परिसर में सामूहिक कन्या भोज का आयोजन किया। आशीष सक्सेना, राम सिंह वर्मा ,डीके गुप्ता, रजत कश्यप, रजत सागर ने बढ़-चढ़कर सहयोग किया।

Related

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *