जन्मदिन विशेष ‘शैलेन्द्र’ : जीवन के हर फलसफे पर गीत लिखने में माहिर

मुंबई। जिंदगी के हर फलसफे और जीवन के हर रंग पर गीत लिखने वाले शैलेन्द्र के गीतों में हर मनुष्य स्वंय को ऐसे समाहित सा महसूस करता है जैसे वह गीत उसी के लिए लिखा गया हो।

Advertisement

शैलेन्द्र : जीवन के हर फलसफे पर गीत लिखने में माहिर

पश्चिमी पंजाब के रावलपिंडी शहर अब पाकिस्तान में 30 अगस्त 1923 को जन्में शंकर दास केसरीलाल उर्फ शैलेन्द्र अपने भाइयों मे सबसे बड़े थे। उनके बचपन में ही उनका परिवार रावलपिंडी छोड़कर मथुरा चला आया। जहां उनकी माता पार्वती देवी की मौत से उन्हें गहरा सदमा पहुंचा और उनका ईश्वर पर से सदा के लिये विश्वास उठ गया।

अपने परिवार की घिसीपिटी परंपरा को निभाते हुये शैलेन्द्र ने वर्ष 1947 में अपने कैरियर की शुरूआत मुंबई में रेलवे में नौकरी से की। उनका मानना था कि सरकारी नौकरी करने से उनका भविष्य सुरक्षित रहेगा। इस समय स्वतंत्रता संग्राम अपने चरम पर था।

हॉकी खेलने के दौरान जाति-सूचक टिप्पणी से दुखी होकर मुंबई पहुंचे थे गीतकार शैलेन्द्र!

रेलवे की नौकरी उनके स्वभाव के अनुकूल नहीं थी। ऑफिस में अपने काम के समय भी वह अपना ज्यादातर समय कविता लिखने मे हीं बिताया करते थे जिसके कारण उनके अधिकारी उनसे नाराज रहते थे।

इस बीच शैलेन्द्र देश की आजादी की लड़ाई से जुड़ गये और अपनी कविता के जरिये वह लोगों मे जागृति पैदा करने लगे। उन दिनों उनकी कविता जलता है पंजाब काफी सुर्खियों मे आ गयी थी। शैलेन्द्र कई समारोह में यह कविता सुनाया करते थे।

हॉकी खेलने के दौरान जाति-सूचक टिप्पणी से दुखी होकर मुंबई पहुंचे थे गीतकार शैलेन्द्र!

गीतकार के रूप में शैलेन्द्र ने अपना पहला गीत वर्ष 1949 में प्रदर्शित राजकपूर की फिल्म बरसात के लिये बरसात में तुमसे मिले हम सजन लिखा था। इसे संयोग हीं कहा जायेगा कि फिल्म बरसात से हीं बतौर संगीतकार शंकर-जयकिशन ने अपने कैरियर की शुरूआत की थी।

शैलेन्द्र: अपने गीतों से दुनिया बदलने का सपना देखने वाला आदर्शवादी जमाने का गीतकार

इसके बाद शैलेन्द्र .राजकपूर के चहेते गीतकार बन गये। शैलेन्द्र और राजकपूर की जोड़ी ने कई फिल्में एक साथ की। इन फिल्मों में आवारा,आह,श्री 420,चोरी चोरी,अनाड़ी,जिस देश में गंगा बहती है, संगम,तीसरी कसम, एराउंड द वर्ल्ड, दीवाना, सपनों का सौदागर और मेरा नाम जोकर जैसी कई फिल्में शामिल है।

जब राज कपूर के गाने को अधूरा छोड़कर चले गए शैलेंद्र | legendary singer singer shailendra was very close to raj kapoor– News18 Hindi

राजकपूर के साथ शैलेन्द्र की मुलाकात एक कवि सम्मेलन के दौरान हुयी थी। राजकपूर को शैलेन्द्र के गाने का अंदाज बहुत भाया और उन्हें उसमें भारतीय सिनेमा का एक उभरता हुआ सितारा दिखाई दिया।

Entertainment special column hamari yaad aayegi on veteran bollywood actress madhubala - हमारी याद आएगी: जब मधुबाला ने 'गुलाम' को 'साहिब' बनाना चाहा - Jansatta

राजकूपर ने शैलेन्द्र से अपनी फिल्मों के लिए गीत लिखने की इच्छा जाहिर की, लेकिन शैलेन्द्र को यह बात रास नही आयी और उन्होंने उनकी पेशकश ठुकरा दी। लेकिन बाद मे घर की कुछ जिम्मेदारियों के कारण उन्होंने राजकपूर से दोबारा संपर्क किया और अपनी शर्तो पर हीं राजकपूर के साथ काम करना स्वीकार कर लिया।

हॉकी खेलने के दौरान जाति-सूचक टिप्पणी से दुखी होकर मुंबई पहुंचे थे गीतकार शैलेन्द्र!

राजकपूर के अलावा शैलेन्द्र की जोड़ी निर्माता-निर्देशक विमल राय के साथ भी खूब जमी।शैलेन्द्र अपने कैरियर के दौरान प्रोग्रेसिव रायटर्स एसोसियेशन के सक्रिय सदस्य बने रहे। वह इंडियन पीपुल्स थियेटर (इप्टा) के भी संस्थापक सदस्यों में से एक थे। शैलेन्द्र को उनके गीतों के लिये तीन बार फिल्म फे र अवार्ड से सम्मानित किया गया।

Lyricist who won hearts and minds - The Statesman

शैलेन्द्र के सिने सफर में उनकी जोड़ी संगीतकार शंकर-जयकिशन के साथ खूब जमी और उनके बनाये गाने जबर्दस्त हिट हुये। शैलेन्द्र ने बूट पालिश,श्री 420 और तीसरी कसम में अभिनय भी किया था ।इसके अलावा उन्होनें फिल्म परख 1960 के संवाद भी लिखे थे।

दुनिया को हिलाने वाले शैलेन्द्र | फॉरवर्ड प्रेस

शैलेन्द्र ने वर्ष 1966 में तीसरी कसम का निर्माण किया लेकिन बॉक्स ऑफिस पर इसकी असफलता के बाद उन्हे गहरा सदमा पहुंचा उसके बाद उनके मित्रों ने उन्हें किसी प्रकार का सहयोग करने से इंकार कर दिया ।मित्रों की बेरूखी और फिल्म तीसरी कसम की असफलता के बाद उन्हें कई बार दिल का दौरा पड़ा।

13 दिसंबर 1966 को शैलेन्द्र ने राजकपूर को आर.के कॉटेज में मिलने के लिये बुलाया, जहां उन्होंने राजकपूर से उनकी फिल्म मेरा नाम जोकर के गीत जीना यहां मरना यहां को पूरा करने का वादा किया, लेकिन वह वादा अधूरा ही रहा और अगले ही दिन 14 दिसंबर 1966 को उनका निधन हो गया। इसे महज एक संयोग हीं कहा जायेगा कि उसी दिन राजकपूर का जन्मदिन भी था।

Related

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *