Russia-Ukraine War : जेलेंस्की का दावा- रूसी हमले में मारे गए 87 और लोग

Advertisement

कीव। यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की ने दावा किया है कि राजधानी कीव से 55 किलोमीटर उत्तर में स्थित देसना शहर में पिछले हफ्ते हुए रूसी हमले में 87 लोग मारे गए हैं। उन्होंने कहा कि चेर्निहाइव क्षेत्र में आने वाले देसना में मलबा हटाने का काम पूरा कर लिया गया है और वहां महज चार मिसाइलों के कारण इतने बड़े पैमाने पर तबाही व मौतें हुई हैं।

Advertisement

जेलेंस्की ने सोमवार को यूक्रेन पर रूसी आक्रमण के तीन महीने पूरे होने से पहले, राष्ट्र के नाम दिए संबोधन में यह टिप्पणी की। उन्होंने कहा कि 24 फरवरी से लेकर अब तक रूसी सेना यू्क्रेन पर 1,474 मिसाइल हमले कर चुकी है, जिनमें 2,275 अलग-अलग मिसाइलों का इस्तेमाल किया गया है। जेलेंस्की ने कहा कि इस अवधि में रूस ने 3,000 से ज्यादा हवाई हमले किए हैं और अधिकतर हमलों में नागरिक ठिकानों को निशाना बनाया गया है। उन्होंने कहा कि रूस ने उनके देश के खिलाफ ‘पूर्ण युद्ध’ छेड़ रखा है, जिसका मकसद ज्यादा से ज्यादा लोगों को मारना और बुनियादी ढांचे को अधिक से अधिक नुकसान पहुंचाना है।

Advertisement

और अधिक उच्च तकनीक वाले हथियार यूक्रेन भेजेंगे : अमेरिका के रक्षा सचिव
वाशिंगटन।अमेरिका के रक्षा मंत्री लॉयड ऑस्टिन ने कहा कि दुनिया भर के लगभग 50 नेताओं ने सोमवार को मुलाकात के बाद यूक्रेन को और अधिक उन्नत हथियार भेजने पर सहमति जताई, जिसमें एक हारपून लांचर और कुछ मिसाइलें शामिल हैं। ‘जॉइंट चीफ ऑफ स्टाफ’ के अध्यक्ष जनरल मार्क मिले ने कहा कि ‘‘निम्न-स्तरीय’’ चर्चा चल रही है कि कैसे अमेरिका को यूक्रेन की सेना के लिए अपने प्रशिक्षण के समायोजन की आवश्यकता हो सकती है और क्या कुछ अमेरिकी सैनिकों को यूक्रेन जाना चाहिए।

अमेरिका ने युद्ध से पहले यूक्रेन में मौजूद अपने कुछ सैनिकों को वापस बुला लिया था और युद्ध क्षेत्र में अपने सैनिक भेजने की उसकी कोई योजना नहीं है। मार्क मिले की टिप्पणियों ने इस संभावना को बल दे दिया कि सेना दूतावास की सुरक्षा या किसी अन्य गैर-लड़ाकू भूमिका के लिए वापस आ सकती है। यह पूछे जाने पर कि क्या अमेरिकी विशेष अभियान बल यूक्रेन जा सकते हैं, अधिकारियों ने कहा कि वह अभी तक ऐसा नहीं कर रहे हैं। मार्क मिले ने कहा ”यूक्रेन में अमेरिकी सेना के किसी भी कदम के लिए राष्ट्रपति के निर्णय की आवश्यकता होगी। इसलिए हम इस तरह की किसी भी चीज़ से दूर हैं।’’

ये भी पढ़ें : ‘महामारी अभी खत्म नहीं हुई, मंकीपॉक्स दुनिया के लिए विकट चुनौती’, डब्ल्यूएचओ ने जारी की चेतावनी

Advertisement
Related

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.