शिवसेना ने किरीट सोमैया पर साधा निशाना, कहा- भाजपा की ‘वॉशिंग मशीन’ में घुसकर स्वच्छ हो गए

शिवसेना ने सामना के संपादकीय में लिखा शिंदे-फडणवीस महामंडल की सरकार आने के बाद राहत घोटाले के मामले बढ़ गए हैं।

Advertisement

मुंबई। महाराष्ट्र  में आईएनएस विक्रांत निधि गबन मामले को लेकर शिवसेना ने अपने मुखपत्र ‘सामना’  में राज्य सरकार पर बड़ा हमला बोला है। शिवसेना ने सामना के संपादकीय में लिखा राज्य में शिंदे-फडणवीस महामंडल की सरकार आने के बाद राहत घोटाले के मामले बढ़ गए हैं। वे सभी भाजपा की ‘वॉशिंग मशीन’ में घुसकर स्वच्छ हो गए हैं।

Advertisement

भाजपा की ‘वॉशिंग मशीन’ में घुसकर स्वच्छ
शिवसेना ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि केंद्रीय जांच एजेंसियों की हफ्ताउगाही की जांच करनेवाली ‘एसआईटी’ को शिंदे-फडणवीस सरकार ने बर्खास्त कर दिया। नवनीत राणा का लकड़ावाला से संबंधित दस्तावेजी वित्तीय लेन-देन का मामला ‘मनी लॉन्ड्रिंग’ के अंतर्गत आता है लेकिन केंद्रीय जांच एजेंसी इन ‘लॉन्ड्री’ वालों को सामान्य जांच के लिए भी बुलाने को तैयार नहीं हैं। जिन पर हत्या, बलात्कार, आत्महत्या के लिए उकसाने, वसूली, वित्तीय घोटाले और ईडी की जांच शुरू थी, वे सभी भाजपा की ‘वॉशिंग मशीन’ में घुसकर स्वच्छ हो गए हैं। हालांकि, इससे आजादी का अमृत महोत्सव कलंकित और धूमिल हो गया है।

Advertisement

किरीट सोमैया और उनके बेटे पर आरोप
शिवसेना ने राज्य सरकार द्वारा बीजेपी नेता किरीट सोमैया और उनके बेटे को इस मामले में राहत देने का आरोप लगाते हुए शिवसेना ने अपने लेख में लिखा, “आईएनएस विक्रांत निधि गबन मामले में पिता-पुत्र को राहत दी गई है। पुलिस का कहना है कि इन दोनों के खिलाफ कोई पुख्ता सबूत नहीं मिल रहे हैं।”

शिवसेना ने उठाए ये सवाल
शिवसेना ने अपने मुखपत्र के जरिए बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि पुलिस कहती है, ठोस सबूत नहीं है और न्यायालय कहता है घोटालेबाज हो तब भी राहत मिलेगी! सोमैया ने भ्रष्टाचार के विरुद्ध लड़ने का आडंबर रचकर न्याय और सत्य पर कीचड़ फेंका। हमें छोड़कर बाकी सब घोटालेबाज हैं, ऐसा दावा ये लोग करते हैं, तब हैरानी होती है। एच.डी.आई.एल., पी.एम.सी. बैंक घोटाले के आरोपी से इस सोमैया की व्यापारिक भागीदारी है।

ये भी पढ़ें- जम्मू कश्मीर के बांदीपोरा में बिहार के एक प्रवासी मजदूर की गोली मारकर हत्या

Advertisement
Related

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.