Queen Elizabeth II: लंदन के वेस्टमिंस्टर हॉल में हजारों लोगों ने महारानी के किए अंतिम दर्शन, देखें तस्वीरें

Advertisement

लंदन। ब्रिटेन में हजारों लोगों ने गुरुवार को दिवंगत महारानी एलिज़ाबेथ द्वितीय के पार्थिव शरीर के अंतिम दर्शन किए। उनका पार्थिव शरीर ब्रिटेन की राजधानी लंदन स्थित संसद भवन के वेस्टमिंस्टर हॉल में अंतिम दर्शन के लिए रखा गया है। ब्रिटेन में सबसे ज्यादा समय तक राज करने वाली महारानी का पिछले हफ्ते स्कॉटलैंड स्थित बाल्मोरल कैसल में 96 वर्ष की उम्र में निधन हो गया था।

Advertisement

Image

Advertisement

उनके ताबूत को स्कॉटलैंड से सड़क और हवाई मार्ग के माध्यम से बकिंघम पैलेस लाया गया था। महाराजा चार्ल्स तृतीय और उनके बेटे राजकुमार विलियम तथा राजुकमार हैरी भी बुधवार को रस्मी यात्रा के दौरान मौजूद रहे और ताबूत के साथ चलते रहे।

Image

महारानी की अन्य संतानें- राजकुमारी एनी, राजकुमार एंड्रयू और राजकुमार एडवर्ड भी रस्मी यात्रा में शामिल थे। ताबूत को घोड़ों वाली तोपगाड़ी में रखा गया था और इसे मध्य लंदन की सड़कों से गुजारा गया, जहां हजारों शोक संतप्त लोग खड़े थे।

Image

हीथ्रो हवाई अड्डे ने विमानों की आवाजाही के कार्यक्रम में यह सुनिश्चित करने के लिए बदलाव किया था कि 40 मिनट की यात्रा के दौरान शांति रहे। इस दौरान हाइड पार्क और बिग बेन से तोपों की सलामी दी गई। ताबूत पर शाही ध्वज लिपटा हुआ है, जिसके ऊपर ताज रखा गया है।

Image

कैंटरबरी के आर्कबिशप रेवरेंड जस्टिन वेल्बी ने बाइबल से उद्धृत किया, “तुम्हारा मन व्याकुल न हो: तुम परमेश्वर पर विश्वास करते हो, मुझ पर भी विश्वास करो। मेरे पिता के घर में कई भवन हैं : यदि ऐसा न होता तो मैं तुमसे कह देता।”

Image

पारंपरिक ‘लाइंग-इन-स्टेट’ समारोह बुधवार शाम पांच बजे से शुरू हुआ। महारानी के अंतिम दर्शन के लिए करीब चार किलोमीटर से अधिक लंबी कतार लगी हुई है।

Image

डिजिटल, मीडिया और खेल विभाग (डीसीएमएस) के अनुसार, कतार को 16 किलोमीटर से अधिक नहीं होने दिया जाएगा और शोक संतप्त लोगों को आगाह किया गया है कि उन्हें वेस्टमिंस्टर हॉल तक पहुंचने में 30 घंटे तक का समय लग सकता है। लोग सोमवार सुबह साढ़े छह बजे तक महारानी के अंतिम दर्शन कर सकेंगे, जिसके बाद वेस्टमिंस्टर एबे में पूरे राजकीय सम्मान के साथ सुबह 11 बजे उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा।

ये भी पढ़ें:- महाराजा के रूप में चार्ल्स का जलवायु परिवर्तन पर काम करते रहना स्वीकार्य होगा: ऑस्ट्रेलियाई पीएम

Advertisement
Related

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.