मुरादाबाद : एसएसपी का चढ़ा पारा, कहा- मेरा दफ्तर है, भिंडी बाजार नहीं

Advertisement

मुरादाबाद,अमृत विचार। ऑफिस में अचानक भीड़ देखकर एसएसपी हेमंत कुटियाल का पारा सोमवार को अचानक चढ़ गया। उन्होंने भीड़ से कहा कि यह मेरा दफ्तर है, कोई भिंडी बाजार नहीं। एसएसपी के तेवर से भाजपा नेता क्षुब्ध हो गए। एसएसपी के बोल को आत्मसम्मान के विपरीत बताते हुए वह तीखी नोकझोंक करने लगे। कुछ देर बाद आसपास मीडिया की मौजूदगी का अहसास होते ही दोनों पक्ष बैकफुट पर आ गए। दोनों पक्षों ने एक-दूसरे का सम्मान करने का दावा किया। हालांकि एसएसपी व भाजपा नेताओं में तीखी नोकझोंक से संबंधित वीडियो सोशल मीडिया की सुर्खी बन चुका है।

Advertisement

भाजपा किसान मोर्चा के क्षेत्रीय अध्यक्ष तेजा गुर्जर सोमवार को करीब 11 बजे एसएसपी कार्यालय पहुंचे। मोर्चा के क्षेत्रीय अध्यक्ष दिनेश ठाकुर भी उनके साथ थे। दो दिन पहले दिनेश पर हमले व घटना में हमलावरों के खिलाफ पुलिसिया कार्रवाई के बाबत वह पूछताछ करने पहुंचे थे। दिनेश के मुताबिक तेजा गुर्जर पहले से कप्तान से मिलने का समय ले चुके थे। फिर भी एसएसपी का पीआरओ उनकी राह का रोड़ा बन गया। तब पश्चिम यूपी के विभिन्न जिलों के 14 जिलाध्यक्ष व पदाधिकारी भी तेजा गुर्जर के साथ थे।

Advertisement

स्लिप भेजने के बाद एसएसपी से मिलने की अनुमति मिली। पीआरओ बर्ताव से खार खाए भाजपा नेताओं के सिर पर एसएसपी दफ्तर में घुसते ही ओले पड़ गए। फरियादियों की शिकायतों का निस्तारण करने में जुटे एसएसपी की नजर अचानक 20-25 लोगों पर गई। तब भीड़ देख एसएसपी बोल पड़े कि यह मेरा दफ्तर है, कोई भिंडी बाजार नहीं है। कप्तान के तीखे तेवर ने आग में घी का काम किया। भाजपा नेता तेजा गुर्जर भड़क गए। उनके पीछे कुछ मीडियाकर्मी भी थे। मीडियाकर्मियों के सामने बेइज्जती भाजपा नेता को नागवार गुजरी। उन्होंने तल्ख लहजे में आपत्ति दर्ज कराई।

एसएसपी व भाजपा नेता में बहस हुई। भाजपा नेता ने मीडियाकर्मियों के सामने एसएसपी को दोबारा भिंडी बाजार की पुनरावृत्ति करने को कहा। वायरल एक वीडियो में तेजा को कप्तान से कहते सुना जा रहा है कि मैं आपके काम से संतुष्ट हूं लेकिन, आपके व्यवहार से नहीं। आप अब मीडिया के सामने भिंडी बाजार बोलकर दिखाओ।एसएसपी व भाजपा नेताओं के बीच नोकझोंक शुरू होते पुलिसकर्मियों की नजर कवरेज कर रहे मीडियाकर्मियों को तत्काल फोटो डिलीट करने व दफ्तर से बाहर जाने को कहा गया।

ऐसे हुआ प्रकरण का पटाक्षेप
एसएसपी व भाजपा नेताओं के बीच तीखी नोकझोंक का पटाक्षेप भी नाटकीय अंदाज में हुआ। एसएसपी ने डैमेज कंट्रोल करते हुए कुछ नेताओं को दफ्तर से बाहर जाने को कहा। फिर भाजपा किसान मोर्चा के छह नेताओं के लिए उन्होंने चाय मंगाई। चाय पीते ही किसान मोर्चा के नेताओं का अंदाज बदल गया। क्षेत्रीय अध्यक्ष ने कहा कि एसएसपी का काम अच्छा है। दिनेश पर जिन लोगों ने हमला किया, उनमें से दो आरोपी गिरफ्तार हो चुके हैं। बातचीत में शेष हमलावरों को अविलंब गिरफ्तार करने का भरोसा एसएसपी से मिला है।

एसएसपी हेमंत कुटियाल ने कहा कि भाजपा नेताओं से अभद्र बर्ताव का सवाल ही नहीं है। ऑफिस में अचानक बढ़ी भीड़ को देख जो त्वरित टिप्पणी की गई, वह मातहतों के लिए थी। फरियादियों में से कुछ लोग बगैर अनुमति ऑफिस में दाखिल हो गए। बेतरतीब भीड़ को देख भिंडी बाजार की बात कही गई। भाजपा नेता पुलिस की कार्यप्रणाली से पूरी तरह संतुष्ट थे।

ये भी पढ़ें : मुरादाबाद: तीन घंटे की बारिश से कम हुआ 10 डिग्री तापमान

Advertisement
Related

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.