बढ़ रही हैं समुद्री ‘हीटवेव’, भारत में मॉनसून की बारिश पर पड़ रहा है असर

Advertisement

मुंबई। एक नए अध्ययन से पता चला है कि हिंद महासागर में ‘समुद्री हीटवेव’ तेजी से बढ़ रही हैं और इससे भारत में मॉनसून की बारिश पर असर पड़ रहा है। पुणे स्थित भारतीय उष्णकटिबंधीय मौसम विज्ञान संस्थान के शोधकर्ताओं के एक अध्ययन में यह बात सामने आई है। ‘समुद्री हीटवेव’ समुद्र या महासागर में असमान्य उच्च तापमान की एक छोटी अवधि होती है।

Advertisement

शोधकर्ताओं का दावा है कि पहली बार कोई ऐसा अध्ययन हुआ है जिसने समुद्री हीटवेव और वायुमंडलीय परिसंचरण तथा बारिश के बीच निकट संबंध को दर्शाया है। उन्होंने कहा कि चूंकि समुद्री हीटवेव की आवृत्ति और तीव्रता बढ़ रही है इसलिए समुद्री अवलोकन संबंधी गतिविधियों को बढ़ाने और मौसम से जुड़े मॉडल को उन्नत करने की आवश्यकता है।

Advertisement

जलवायु वैज्ञानिक रॉक्सी मैथ्यू कोल के नेतृत्व में हुए अध्ययन के अनुसार, इन घटनाओं से प्रवाल विरंजन (रंग बदलना), समुद्री घास का नष्ट होने और वनों के नुकसान से निवास स्थान नष्ट होते हैं तथा मत्स्य पालन के क्षेत्र पर भी प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। यह अध्ययन जर्नल ‘जेजीआर ओशन्स’ में प्रकाशित हुआ है।

जलक्षेत्र के अंदर हुए एक सर्वेक्षण से पता चला है कि तमिलनाडु के तट के निकट मन्नार की खाड़ी में 85 प्रतिशत प्रवालों का मई 2020 में समुद्री हीटवेव से रंग परिवर्तित हो गया था। हालांकि हाल के अध्ययनों में इन घटनाओं के होने और वैश्विक महासागरों पर इनके प्रभावों के बारे में जानकारी दी है, लेकिन उष्णकटिबंधीय हिंद महासागर के संबंध में स्पष्ट जानकारी नहीं है।

ये भी पढ़े-

अब पांच साल से छोटे बच्चों को भी लगेगी वैक्सीन, फाइजर ने मांगी मंजूरी

Advertisement
Related

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.