यहां मौजूद है 3260 मीटर ऊंची चोटी पर भारत का दूसरा ब्रह्मा मंदिर

Advertisement

नैनीताल, अमृत विचार। नैनीताल जनपद के पंगोट विनायक कुंजाखड़क मार्ग पर ब्रह्मदेव का मंदिर है। राजस्थान पुष्कर के बाद यह ब्रह्मा का दूसरा मंदिर है जहां लोग पूजा के लिए आते हैं। हालांकि इस मंदिर के विषय में कम लोगों को ही जानकारी है। 3260 मीटर ऊंची चोटी पर स्थित ब्रह्मा स्थली में 13वीं शताब्दी में गर्ग ऋषि द्वारा तपस्या की गई थी, और उनके द्वारा इसी स्थान पर भगवान ब्रह्मा का मंदिर भी स्थापित किया गया।

Advertisement
नैनीताल में मौजूद ब्रह्मा जी का मंदिर

मंदिर के बाबा माधव मुनि ने बताया कि यह भारत में पुष्कर राजस्थान के बाद दूसरा भगवान ब्रह्मा का मंदिर है। जिसकी स्थापना 13वीं शताब्दी में की गई थी। बताया कि जब गांवों में ग्रामीणों की गाय भैंस गर्भवती नहीं हो पाती थी तो यहां पर मन्नत मांगने से गाय भैंस गर्भवती हो जाती है और बाद में उनका दूध यहां पर बने कुंड में चढ़ाया जाता है।

Advertisement

बाबा ने बताया कि मंदिर निर्माण के लिए जब इस तपोवनी में खुदाई की गई थी तो उस दौरान धरती से चांदी का छत्र,सिक्के व कई प्राचीनकाल के अद्भुत पत्थर निकले थे।

जिला मुख्यालय नैनीताल से पंगोट मार्ग होते हुए
विनायक कुंजाखड़क मार्ग के बीच से करीब तीन किमी की खड़ी चढ़ाई चढ़ कर ब्रह्मा स्थली तक पहुँचा जाता है, काफी संख्या में ट्रैकर और श्रद्धालु भी यहां हर रोज पहुँचते है।

ब्रह्म स्थली का चमत्कार यही है कि तीन किमी खड़ी चढ़ाई के बाद तपोवनी में पहुँचते ही सारी थकान अपने आप गयाब हो जाती है। हालांकि व्यापक प्रचार प्रसार नहीं होने के चलते इस पवित्र स्थान की जानकारी स्थानीय लोगों के सिवा काफी कम लोगों को ही है। लेकिन अब ट्रैकर काफी संख्या में यहाँ पहुँचने लगे हैं।

Advertisement
Related

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.