हल्द्वानी: चंदन हत्याकांड…महिला, उसका भाई और टैक्सी चालक हिरासत में, आज करेगी पुलिस खुलासा

मृतक के परिवार ने ससुरालियों पर जाहिर किया था हत्या का शक

Advertisement

हल्द्वानी, अमृत विचार। जिले के चर्चित हत्याकांड का पुलिस ने आखिरकार दो महीने 10 दिन बाद खुलासा कर दिया। इस मामले में एक महिला, महिला के भाई और एक टैक्सी चालक को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। स्पष्ट नहीं है, लेकिन बताया जा रहा है कि चंदन की हत्या अवैध संबंधों में बाधक बनने के चलते की गई और हत्या के बाद लाश को जंगल में ठिकाने लगा दिया गया है। मामले में चंदन के परिजन ससुराली पक्ष पर ही हत्या का शक जाहिर कर रहे थे। बुधवार यानी आज पुलिस इस मामले का खुलासा कर रही है।

Advertisement

गौनियारो गांव धारी निवासी चंदन सिंह (32) पुत्र शिवराज सिंह की शादी वर्ष 2019 में डूंगरी गांव की यशवंती पुत्री चंदन सिंह रावत से हुई थी। बीती 29 मई को यशवंती अपने भाई दिनेश के साथ मायके चली गई थी। एक जून को चंदन पत्नी को लेने डूंगरी रवाना हुआ और जाने से पहले पत्नी को फोन कर इसकी सूचना दी, लेकिन पत्नी ने यह बात किसी को घर में नहीं बताई।

Advertisement

इधर, चंदन लापता हो गया और खोजबीन शुरू हुई तो छह जून को चंदन की लाश ससुराल के पास मुख्य मार्ग से एक दूर जंगल में मिली। लाश को तेजाब से जलाया गया था। मामले की गंभीरता को देखते हुए पटवारी क्षेत्र के इस मामले को पुलिस ने अपने हाथ में लिया।

13 जून को मुक्तेश्वर पुलिस ने चंदन के भाई सुरेश की तहरीर पर अज्ञात हत्यारे के खिलाफ केस दर्ज किया। हत्यारा पर्दे के पीछे पुलिस से खेल खेल रहा था। ऐसे में एसपी क्राइम डॉ.जगदीश चंद्र और एसओजी ने भीमताल में डेरा डाल लिया। सूत्रों को मानें तो चंदन और उसके करीबियों समेत ससुरालियों से कड़ी पूछताछ की गई। इस पूछताछ में चंदन के कातिल भी शामिल थे और पुलिस के सवालों में उलझ गए। जिसके बाद पुलिस ने तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया। जिसमें परिवार से जुड़ी एक महिला, महिला का भाई और टैक्सी चलाने वाला ड्राइवर शामिल हैं।

चंदन की हत्या में शामिल कुछ लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है और उन्होंने अपना जुर्म भी स्वीकार कर लिया है। हत्यारोपियों से कुछ और जानकारी जुटाई जा रही है। संभवत: आज इस मामले का खुलासा कर दिया जाएगा।
– पंकज भट्ट, एसएसपी नैनीताल

अब नहीं नैनीताल पुलिस को सीबीआई की जरूरत
हल्द्वानी। चंदन हत्याकांड के खुलासे में देरी ने परिवार और गोनियारों वालों को बेसब्र कर दिया। पुलिस की खिलाफत की योजना बनने लगी। परिवार के लोग ससुरालियों पर हत्या का गहरा शक जता रहे थे और चाह रहे थे कि बिना सुबूत पुलिस उन्हें गिरफ्तार कर ले, लेकिन बिना सुबूत पुलिस किसी को जेल नहीं भेजना चाहती थी। ऐसे में जिन तीन लोगों पर परिजन शक जता रहे थे, उन्हें 26 जुलाई के लिए पुलिस ने पॉलीग्राफ टेस्ट के लिए दिल्ली सीबीआई ले गई। हालांकि इस टेस्ट की रिपोर्ट अभी नहीं आई और अब पुलिस को खुलासे के लिए सीबीआई की जरूरत भी नहीं पड़ेगी। बता दें कि पुलिस ने चंदन की पत्नी यशवंती, यशवंती के भाई दिनेश और एक अन्य का टेस्ट कराया था।

पॉलीग्राफ टेस्ट पर टिका हंसा हत्याकांड का राज
हल्द्वानी। एक हंसा हत्याकांड भी पुलिस के सिर का दर्द बनी हुई है। इस हत्या एक सितंबर में एक साल पूरे हो जाएंगे। चीनपुर मुखानी निवासी हंसा का शव उन्हीं के बाथरूम में पड़ा मिला था और लाश को सबसे पहले हंसा के गोद लिए बेटे शिवा गिनवाल, शिवा के दोस्त अक्षत तिवारी ने देखा। लाश देखने वाला तीसरा व्यक्ति हंसा का केयर टेकर था। इस मामले में दो बार पोस्टमार्टम कराया गया, लेकिन कुछ हासिल नहीं हुआ। हंसा की बेटी सौम्या ने शिवा और अक्षत के खिलाफ हत्या का केस दर्ज कराया और हंसा की करोड़ों की जमीन के लिए हत्या का शक जाहिर किया। अब इस मामले में पुलिस शिवा, अक्षत और हंसा के केयर टेकर का पॉलीग्राफ टेस्ट कराने का प्रयास कर रही है।

 

 

Advertisement
Related

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.