बरेली: बीएड प्रवेश परीक्षा का मेहनताना मांग रहे शिक्षक, जानें पूरा मामला

Advertisement

बरेली, अमृत विचार। बीएड संयुक्त प्रवेश परीक्षा का परिणाम आ चुका है, अब सिर्फ काउंसिलिंग बाकी है, लेकिन दूसरे जिलों में जाकर परीक्षा संपन्न कराने की महत्वपूर्ण जिम्मेदारी निभाने वाले शिक्षक मेहनताना न मिलने से परेशान है। महात्मा ज्योतिबा फुले रुहेलखंड विश्वविद्यालय के द्वारा बीएड प्रवेश परीक्षा के लिए बनाए गए व्हाट्सएप ग्रुप पर शिक्षक मेहनताना के बारे में जानकारी मांग रहे हैं, लेकिन उन्हें कोई संतुष्ट जवाब नहीं मिल रहा है।

Advertisement

हालांकि परीक्षा की जिम्मेदारी निभाने वाले अधिकारी खुलकर तो नहीं बोल रहे हैं, लेकिन उनका कहना है कि परीक्षा में जिम्मेदारी निभाने वाले शिक्षकों का खर्चा काउंसिलिंग के बाद ही दिया जाएगा। कुछ शिक्षक अधिकारियों से फोन पर भी संपर्क कर रहे हैं, लेकिन वहां भी कोई संतोषजनक जवाब नहीं मिल रहा है।

Advertisement

विश्वविद्यालय ने परीक्षा को सकुशल संपन्न कराने के लिए विश्वविद्यालय परिसर के शिक्षकों के अलावा संबद्ध महाविद्यालयों के शिक्षकों को प्रतिनिधि बनाकर अलग-अलग जिलों की जिम्मेदारी देकर भेजा था। सभी शिक्षकों ने रहने व खाने का खर्चा खुद ही उठाया। परीक्षा 6 जुलाई को संपन्न हुई थी। अब 5 अगस्त को परिणाम भी आ गया है।

अब शिक्षकों का कहना है कि एक महीने बाद भी उन्हें खर्चा नहीं दिया गया है। व्हाट्सएप ग्रुप पर एक शिक्षक ने पूछा कि शिक्षकों को बीएड प्रवेश परीक्षा में खर्च की गई धनराशि वापस पाने के लिए कितना इंतजार करना होगा। एक शिक्षक ने अधिकारी से रकम देने का आग्रह किया है। इसी तरह से अलग-अलग शिक्षक सवाल पूछ रहे हैं।

यह भी पढ़ें- बरेली: भाजपाइयों ने निकाली तिरंगा यात्रा, सड़कों पर गूंजे देशभक्ति के तराने

Advertisement
Related

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.