बरेली: एफपीओ से जुड़े किसान, आसान होंगे सभी काम

बरेली, अमृत विचार। प्रधानमंत्री के आत्मनिर्भर भारत के लिए लोकल से वोकल के सपने साकार करने के लिए नाबार्ड के सहयोग से संचालित एफपीओ यानी किसान उत्पादक संगठन की मोबाइल वैन रुरल मार्ट का बुधवार को एक दिवसीय दौरे पर लखनऊ के क्षेत्रीय कार्यालय से पहुंचे राष्ट्रीय कृषि और ग्रामीण विकास बैंक (नाबार्ड) के मुख्य महाप्रबंधक डा. डीएस चौहान ने आरंभ किया। उन्होंने आरआईडीएफ योजना में स्वीकृत पराग डेयरी यूनिट का निरीक्षण और प्रोजेक्ट की समीक्षा कर जरूरी दिशा निर्देश दिए।

Advertisement

जिला सहकारी बैंक के प्रांगण में आयोजित बैठक में कृषि क्षेत्र में पूंजी निवेश को बढ़ावा देने के लिए अधिक से अधिक फाइनेंस की सलाह दी। परतासपुर ग्राम में आजीविका एवं उद्यम विभाग कार्यक्रम के अंतर्गत (आत्मनिर्भर नारी शक्ति से संवाद) और प्रशिक्षण प्राप्त कर चुके 150 प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र दिए। इसके अलावा ट्रांसपोर्ट नगर स्थित प्रेमांजलि महिला विकास केंद्र में एसएचजी द्वारा उत्पादित प्रोडक्टस की प्रदर्शनी को देखा और महिलाओं को आय सृजन की सलाह दी।

जिला विकास प्रबंधक डीके मिश्रा ने बताया कि एफपीओ से जुड़े 742 किसानों को न सिर्फ अपनी उपज का बाजार मिलेगा बल्कि खाद, बीज, दवाइयों और कृषि उपकरण आदि खरीदना आसान होगा। एक सशक्तिशील संगठन होने के कारण एफपीओ के सदस्य के रूप में किसानों को बेहतर सौदेबाजी करने की शक्ति मिलेगी, जिससे उन्हें अपने फसल उत्पाद को प्रतिस्पर्धा मूल्यों पर खरीदने या बेचने का उचित लाभ मिल सकेगा।

वहीं किसानों को बिचौलियों के मकड़जाल से मुक्ति मिलेगी। अग्रणी बैंक प्रबंधक राकेश सिसोदिया, बड़ौदा ग्रामीण बैंक के क्षेत्रीय प्रबंधक एसबी सक्सेना, जिला सहकारी बैंक के महाप्रबंधक जेपी सिंह, आरसेटी के निदेशक विनय कुमार, महेंद्र पाल सिंह, मुकर्रिब हुसैन, प्रेमांजलि आदि उपस्थित रहे।

Related

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *