बरेली: स्थानांतरण नीति के खिलाफ कर्मचारियों ने खोला मोर्चा

Advertisement

अमृत विचार, बरेली। मिनिस्टीरियल एसोसिएशन इरिगेशन डिपार्टमेंट के पदाधिकारियों ने मंगलवार को मुख्य अभियंता (शारदा) सिंचाई एवं जल संस्थान कार्यालय के बाहर धरना प्रदर्शन कर उन्हें आठ सूत्रीय मांगों का ज्ञापन सौंपा। मंगलवार को पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार संगठन के मंडलीय पदाधिकारी मुख्य अभियंता (शारदा) के कार्यालय के बाहर एकत्रित हुए। यहां सुबह से दोपहर तक धरना दिया और उसके बाद प्रदर्शन करते हुए मुख्य अभियंता (शारदा) एसपी सिंह को ज्ञापन सौंपा। इस दौरान संगठन के मंडल अध्यक्ष आशीष कुमार गंगवार ने कहा कि शासन सिंचाई विभाग के कर्मचारियों का पदोन्नति के नाम पर शोषण कर रहा है।पदोन्नति होने के बाद उन्हें जनपद से बाहर स्थानांतरण किया जा रहा है।

Advertisement

इसके साथ ही चुनाव आचार संहिता से पूर्व किए गए प्रोन्नति आदेश के औपचारिक आदेश, आपत्ति लगाकर वापस किए जा रहे हैं। इसकी जांच हो और दोषियों के खिलाफ जांच के बाद कार्रवाई की जाए। पिछले साल हुए स्थानांतरण में बरती गई अनियमितताओं की जांच, ई -वर्क प्रणाली में लिपिक संवर्ग के कार्यों को यथावत रखा जाए, उनके अधिकारों में कटौती रोकी जाए,वित्तीय वर्ष 2021-22 में प्रदेश के तीन खंडों में सर्वाधिक भुगतान किया गया इसकी उच्च स्तरीय जांच की मांग की गई है। उन्होंने बताया कि 26 मई गुरुवार को सभी मुख्यालयों में धरना प्रदर्शन कर ज्ञापन दिया जाएगा।

Advertisement

ज्ञापन देने वालों में मंडल मंत्री निर्भय हिंद आजाद, सुनील कुमार सक्सेना, हवलदार सिंह, अनुज कुमार सिंह, अनिल राही, राजीव सक्सेना, प्रशांत दीक्षित, महेंद्र पाल सिंह, दीपेश दास, भोलानाथ, सतेंद्र दक्ष, मनोज कुमार, मुनीष कुमार, आशीष मिश्रा, इरफान , कमलेंद्र सिंह, दुर्गा मिश्रा, चारु जोहरी, अंजू आर्य एवं भरत शर्मा आदि मौजूद रहे।

ये भी पढ़ें- बरेली: ओटी टेक्नीशियन की मौत के बाद स्वास्थ्य विभाग ने अस्पताल में की छापेमारी

Advertisement
Related

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.