नवरात्रि की प्रतिपदा तिथि को पूरे दिन रहेगा आडल योग, इन मुहूर्त में न करें कलश स्थापना

Advertisement

नई दिल्ली। 26 सितंबर से मां दुर्गा की पूजा-अराधना का पर्व नवरात्रि प्रारंभ हो रहा है। हिंदू धर्म में नवरात्रि के त्योहार का विशेष महत्व होता है। साल में कुल चार नवरात्रि आते हैं। शारदीय नवरात्रि के पहले दिन यानी प्रतिपदा तिथि पर अडाल योग पूरे दिन रहेगा। ज्योतिष शास्त्र में इस योग को अशुभ योगों में गिना जाता है।

Advertisement

मां दुर्गा की सवारी
इस बार शारदीय नवरात्रि सोमवार से प्रारंभ होने के कारण मां दुर्गा का आगमन हाथी पर होगा। माता रानी की विदाई भी हाथी की सवारी पर होगी। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, मां आदिशक्ति की नवरात्रि के नौ दिन उपासना करने से शुभ फलों की प्राप्ति होती है।

Advertisement

शारदीय नवरात्रि पर पूरे दिन रहेगा अडाल योग
शारदीय नवरात्रि के पहले दिन अडाल योग का निर्माण हो रहा है। ज्योतिष शास्त्र में अडाल योग को शुभ नहीं माना गया है। इस दौरान किए गए कार्यों का परिणाम शीघ्र नहीं मिलने की मान्यता है।

शारदीय नवरात्रि 2022 प्रतिपदा तिथि
प्रतिपदा तिथि की शुरुआत 26 सितंबर 2022 को सुबह 03 बजकर 22 मिनट से होगी, जिसका समापन 27 सितंबर 2022 को सुबह 03 बजकर 09 मिनट पर होगा।

इन मुहूर्त में न करें कलश स्थापना
राहुकाल- 07:41 एएम से 09:12 एएम।
यमगण्ड- 10:42 एएम से 12:12 पीएम।
आडल योग- पूरे दिन।
दुर्मुहूर्त- 12:36 पीएम से 01:24 पीएम।
गुलिक काल- 01:42 पीएम से 03:13 पीएम।
वर्ज्य- 02:27 पीएम से 04:04 पीएम।

नवरात्रि के पहले दिन मां शैलपुत्री की पूजा
नवरात्रि का पहला दिन 26 सितंबर 2022, सोमवार को है। इस दिन मां दुर्गा के स्वरूप मां शैलपुत्री की पूजा का विधान है। मां शैलपुत्री की पूजा करते समय बीजमंत्र ह्रीं शिवायै नम: मंत्र का जाप करना अति शुभ माना जाता है।

ये भी पढ़ें : 26 सितंबर से शुरू होंगे नवरात्र, जानिए कन्या लग्न में कब करें कलश स्थापना, क्या है शुभ मुहूर्त

Advertisement
Related

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.